सदस्यसम्भाषणम्:Dhanish.N

विकिपीडिया, कश्चन स्वतन्त्रः विश्वकोशः
Jump to navigation Jump to search
स्वागतपत्रम्

तव मार्गदर्शनाय विद्यन्ते एतानि पृष्ठानि

Evolution-tasks.svg  विकिपीडियायाः परिचयः


Crystal Clear app kservices.png  देवनागरीलिप्या कथं लेखनीयम्?


Crystal Clear app personal bt3.png  नवागतेभ्यः परिचयः


Wiki Monitoring Team logo.svg  स्वशिक्षा


Email-logo.png वि-पत्र-पञ्जीकरणं करोतु


-- नूतन-प्रयोक्तृ-सन्देशः (चर्चा) ०४:४८, २९ अगस्त २०१७ (UTC)

गोवैन्द् मिष्र[सम्पादयतु]

जन्म : 1 अगस्त 1939, अतर्रा, बांदा, (उत्तर प्रदेश)

भाषा : हिन्दी,अंग्रेजी विधाएँ : उपन्यास, कहानी, यात्रा-वृत्तान्त, साहित्यिक निबंध, बाल साहित्य, कविता मुख्य कृतियाँ उपन्यास : वह अपना चेहरा, उतरती हुई धूप, लाल पीली जमीन, हुजूर दरबार, तुम्हारी रोशनी में, धीर समीरे, पाँच आंगनों वाला घर, फूल ... इमारतें और बन्दर, कोहरे में कैद रंग, धूल पौधों पर कहानी संग्रह : नए पुराने माँ-बाप, अंत:पुर, धांसू, रगड़ खाती आत्महत्यायें, मेरी प्रिय कहानियाँ, अपाहिज, खुद के खिलाफ, खाक इतिहास, पगला बाबा, आसमान कितना नीला, स्थितियाँ रेखांकित, हवाबाज, मुझे बाहर निकालो यात्रा वृत्तान्त : धुंध भरी सुर्खी, दरख्तों के पार ... शाम, झूलती जड़ें, परतों के बीच, और यात्राएं .... साहित्यिक निबंध : साहित्य का संदर्भ, कथा भूमि, संवाद अनायास, समय और सर्जना बाल साहित्य : कवि के घर में चोर-राधाकृष्ण प्रकाशन, मास्टर मन्सुखराम, आदमी का जानवर, ओ प्रकृति माँ

Aerial View of Senate Hall, University of Allahabad.png

उद्गार अङ्कम इति पुरुषस्य उद्धार सामर्थं सूचयति । उद्धार अङ्कम - उद्धार व्रुत्तान्तं उपरि आधारितं भवति । उद्धार व्रुत्तान्तः सिबिल् , इत्यादि उद्वार विभागेन प्राप्तुं शक्नोमः । अधिकोषाः व्रुध्ध्युपजीवनः , उद्धारपत्र संस्था इत्यादयः उद्धारं दन्तुं अयं अङ्कस्य उपरि विश्वसति । अयं अङ्केन अधिकोषात् धनं , उद्वारं च प्राप्तुं शक्यते । उदार अङ्कस्य उपयोगेन दुरुद्व्रा धन्प्रयोगान् दिनी करोति| उद्वार् अङ्क् केवल अधिकोषाना उपयोगाय् न्, पुरन्त्, दुर कनि ग्रह्पतय्, रज्यधिकार्न्न् अपि उदार् अन्खसय परयोग करोति| परन्तु सर्व्णी तन्त्र बहुविधा उद्गराव्र्न्तानट् प्रतिरुप्| विविध् राष्ट्षु उद्ग्रार् अन्खास्या प्र्योजनम्| भारतदेश् उद्गार् अन्किणा सघणीकारा चत्वार स्स्या सनति| ते भारतिय् षिस्र्व् अधिकोष् अनुमतिना एव् उद्गार्क्र्न्तान्वप्रान् दन्तु श्क्नोति| तेषु सिबिल् इति सस्या विख्यात्| सिबिल् सस्याया उद्गार् अङ्क् सिबिल् अङ्क् इति नम्ना प्रासिद्द्|

"https://sa.wikipedia.org/w/index.php?title=सदस्यसम्भाषणम्:Dhanish.N&oldid=439936" इत्यस्माद् प्रतिप्राप्तम्